सुनील ‘साजन’ सहित तीन नेता सपा से बर्खास्त, पार्टी विरोधी काम का आरोप

लखनऊ। यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने आज अपने तीन सबसे करीबी युवा नेताओं को बर्खास्त कर पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया। पार्टी से बर्खास्त किए गए तीनों युवा नेता मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के काफी नजदीक बताए जाते थे। पार्टी ने तीनों नेताओं की बर्खास्तगी से यह संदेश देने का प्रयास किया है कि पार्टी से ऊपर कोई नहीं है और अब उसका पूरा ध्यान वर्ष 2017 में होने वाले विधानसभा चुनावों पर है। सपा के प्रदेश अध्यक्ष अखिलेश यादव ने पार्टी विरोधी गतिविधियों को देखते हुए सुनील सिंह साजन, आनंद भदौरिया और डॉ. सुबोध यादव को पार्टी से निष्कासित कर दिया है।

नेपाल में हाल ही में हुई भूकम्प त्रासदी के बाद उत्तर प्रदेश की अखिलेश सरकार नेपाल को मदद पहुंचाने के लिए खड़ी हुई थी तब अखिलेश ने सुनील सिंह साजन पर ही सबसे ज्यादा भरोसा किया था और नेपाल में जा रही मदद की पूरी कमान सुनील सिंह साजन के हाथों में ही थी।

समाजवादी पार्टी से बर्खास्त किये गए दूसरे नेता आनन्द भदौरिया अखिलेश यादव भी नहीं मुलायम सिंह यादव के भी करीबी रहे हैं। आनन्द भदौरिया को समाजवादी पार्टी ने धौरहरा से से लोकसभा का चुनाव भी लड़ाया था। 2012 के विधानसभा चुनाव में अखिलेश यादव ने आनन्द भदौरिया को काफी तवज्जो दी थी।

पार्टी से हटाये गए तीसरे नेता डॉ. सुबोध यादव को भी मुख्यमंत्री का काफी करीबी माना जाता है। मुख्यमंत्री के हैलीकाप्टर में साथ-साथ दौरा करते हुए उन्हें कई बार देखा गया है। सुबोध यादव को आज पार्टी ने बहार का रास्ता दिखा दिया।